Home बालाघाट कटंगी पुलिस ने विद्यार्थियों पर बरसाई लाठियां दर्जन भर छात्र-छात्राएं घायल,  लाठी चार्ज जैसी कोई घटना नहीं ..अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक

कटंगी पुलिस ने विद्यार्थियों पर बरसाई लाठियां दर्जन भर छात्र-छात्राएं घायल,  लाठी चार्ज जैसी कोई घटना नहीं ..अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक

4 second read
0
0
88

कटंगी। छात्र संघ चुनाव को लेकर शासकीय कला एवं वाणिज्य महाविद्यालय परिसर में सुरक्षा व्यवस्था पर तैनात पुलिस कर्मियों ने शनिवार को महाविद्यालय के नियमित छात्र-छात्राओं पर बेरहमी से ताबड़तोड़ लाठियां भांजी. इस घटना में करीब दर्जन भर छात्र-छात्राएं घायल हो गये. थाना प्रभारी मनोज राजपूत और पुलिस कर्मियों ने एकाएक विद्यार्थियों पर क्रुरता से हमला किया. इस दौरान स्थल पर अनुविभागीय अधिकारी ऋषभ जैन, एसडीओपी रितु सिंह भी मौजूद रहे. दरअसल, 28 अक्टूबर को महाविद्यालय परिसर में कक्षा प्रतिनिधी के नामाकंन की प्रक्रिया चल रही थी. इस दौरान प्रक्रिया समाप्त होने पर नियमित छात्र एवं छात्राओं ने महाविद्यालय में प्रवेश करने की कोशिश की. जिन्हें पुलिस ने मेन गेट रोक दिया जिसके बाद विद्यार्थियों ने विरोध शुरू किया और पुलिस ने बिना कुछ सोचे-समझे विद्यार्थियों पर लांठिया बरसाना शुरू कर दी. जिसके पश्चात् इस घटना से आक्रोशित एनएसयूआई, अभाविप और विद्यार्थियों ने गेट के सामने धरने पर बैठकर विरोध प्रदर्शन किया तथा थाना प्रभारी को हटाने एवं पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. वहीं मामले का बढ़ता देख अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक आकाश भूरिया मौके पर पहुंचे.
विद्यार्थियों ने बताया कि महाविद्यालय में शनिवार को कक्षा प्रतिनिधियों के लिए नामांकन जमा करने के बाद नियमित कक्षाएं लगने की जानकारी महाविद्यालय प्रबंधन ने एक दिवस पूर्व दी थी. इसी के अनुसार आज विद्यार्थी 11 बजे के बाद महाविद्यालय पहुंचे तो उन्हें पुलिस ने मुख्य गेट पर ही रोक दिया. जिसके बाद विद्यार्थियों ने महाविद्यालय प्रबंधन से चर्चा करने की बात कहीं तो पुलिस ने विद्यार्थियों की बात सुनने की बजाए बल प्रयोग कर विद्यार्थियों को लाठियों का प्रयोग कर खदेड़ दिया. इसके बाद से विद्यार्थियों ने उग्र प्रदर्शन शुरू किया. विद्यार्थियों ने छात्रसंघ चुनाव को रद्द कराने के लिए नारे लगाये उन्होनें कहा जो चुनाव विद्यार्थियों पर लाठी चलाए. ऐसा चुनाव की विद्यार्थियों को बिलकुल भी जरूरत नहीं है. इस दौरान भाजपा महामंत्री विनयसिंह ठाकुर, भाजयुमो अध्यक्ष विक्की शर्मा, एनएसयूआई महाविद्यालय चुनाव प्रभारी अनमोल शर्मा, भाजपा अ.जा./ज.जाति मोर्चा जिला उपाध्यक्ष राकेश मेश्राम, संकेत तिवारी, दिमागचंद टेंभरे, पार्षद प्रशांत हुमनेकर, सपा नेता संजय बाघमारे सहित सैकड़ों विद्यार्थी मौजूद रहे. बहरहाल यह घटना कालेज प्रबंधन की सुस्ती की वजह से होना प्रतीत हुआ. चुकिं अगर समय रहते महाविघालय के प्रभारी प्राचार्य अनिल शेण्डे विघार्थियों से गेट पर आकर बात कर लेते या विघार्थियों को कालेज परिसर में प्रवेश मिल जाता तो शायद यह नौबत नहीं आती. पुलिस ने जिस बर्बरता से विद्यार्थियों पर लांठियां चलाई और भगदड़ मची यह घटना ही नहीं होती. जानकारी अनुसार इस घटना में कई छात्राओं की कालेज ड्रेस तक फड़ गई. पीडित छात्र छात्राओं ने पुलिस के इस कृत्य की घोर निंदा करते हुए टीआई को निलंबित करने की मांग की.करीब दो घंटे तक महाविघालय के छात्र छात्रांए के मुख्य गेट के सामने पुलिस प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करते रहे. इन दिनों प्रदेश के सभी विश्वविद्यालय/ महाविद्यालय में करीब 6 साल बाद छात्रसंघ चुनाव हो रहे है.
इन पर बरसी लाठी-
रूपेश तांबे, निहालदेव मुरारी, अनिता पटले, आशा कटरे, दीक्षा रांहगडाले, मनीष राणा, पुर्णिमा राउत, अतुल हरिनखेडे, आशीष निमजे, अरविदं मालाधरी सहित अन्य करीब दर्जन भर कालेज के विघार्थियों पर लाठी बरसी. जिससे वे हल्के पुल्के घायल हुए.
इनका कहना है-
पुलिस ने विद्यार्थियों के साथ जो तरीका अपनाया है वह बहूत ही असंतोषजनक है जिसकी जितनी कड़ी निंदा की जाए वह कम है इस घटना के लिए सभी पुलिस कर्मचारियों पर कडी कार्रवाई होनी चाहिए.
विनय सिंह ठाकुर भाजपा महामंत्री

कालेज प्रंबधन प्रभारी प्राचार्य की लापरवाही से विद्यार्थियों को पुलिस की लाठियों का सामना करना पड़ा है. पुलिस ने भी गैर जिम्मेदार रवैया इख्तिहार कर विद्यार्थियों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा है. प्रभारी प्राचार्य एवं दोषी कर्मचारियों पर कार्रवाई होनी चाहिए तभी विद्यार्थियों के साथ सही न्याय होगा.
अनमोल शर्मा एनएसयूआई चुनाव प्रभारी
पुलिस एवं विघार्थियों के बीच विवाद बढने के बाद मुझे घटना की जानकारी लगी इस संबध में अब विघार्थियों से बातचीत की जाएगी उनका पक्ष सुनने के बाद ही कुछ भी कह पाउंगा.
अनिल शेण्डे प्रभारी प्राचार्य कालेज कटंगी

छात्र संघ चुनाव नामांकन प्रक्रिया के दौरान कुछ बाहरी विघार्थी महाविघालय में प्रवेश कर रहे थे. जिन्हे एसडीओपी एवं महाविघालय के प्राध्यापकों के द्वारा रोकने की कोशिश की गई लेकिन वह नही मान रहे थे जिसके बाद थाना प्रभारी ने हल्का बल का प्रयोग किया है. लाठी चार्ज का जैसी कोई घटना नहीं हुई है यह आरोप बेबुनियाद है फिर भी मामले की जांच कराई जाएगी.
आकाश भूरिया अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक बालाघाट

Load More Related Articles
Load More By Sudhir Tamrakar
Load More In बालाघाट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

चार सौ बच्चो ने दियाँ स्वास्थ्य संबधी संदेश………. 5 कि मी लगाई दौड……….. नगद पुरस्कार भी जीता

बालाघाट वारासिवनी नगर में स्थित रानी अवंतीबाई स्टेडियम में २० जनवरी को मैराथन दौड़ प्रतियोग…