Home बालाघाट मुझे मम्मी पापा मारते पीटते है और मेरे से दारू बनवाते है

मुझे मम्मी पापा मारते पीटते है और मेरे से दारू बनवाते है

3 second read
0
0
71
बालाघाट न्यायपीठ ने बालक के स्वहित में लिया फैसला, बाल गृह में प्रवेश कराकर शाला में कराया दाखिला
बालाघाट। जिले का एक 7 वर्षीय बालक जो विगत एक माह से महाराष्ट्र के बाल गृह में रह रहा था। गत दिवस महाराष्ट्र विशेष किशोर पुलिस इकाई द्वारा उसे बालाघाट लाकर बाल न्यायालय समिति को सौंपा गया। बाल न्यायालय समिति अध्यक्ष प्रकाशचंद्र बाघरेचा ने बताया कि बच्चे की जानकारी के बाद समिति के सदस्यों की मौजूदगी में बच्चे से उसके घर से चले जाने और घर नहीं जाने के बारे में चर्चा की गई तो बच्चे ने बताया कि वह अपनी मम्मी-पापा के साथ नहीं जाना चाहता। बच्चे का कहना था कि मुझे मम्मी-पापा मारते, पीटते है, मेरे से दारू बनवाते है, मैं पढ़ना चाहता हुॅं। बच्चे की इस व्यथा के बाद न्यायपीठ के अध्यक्ष प्रकाशचंद्र बाघरेचा, सदस्य सुशील जैन, शीलासिंह ने मामले में संवेदशीलता दिखाते हुए बालक की बातों पर निर्णय लेकर आदेश पारित किया। जिसमें बच्चे को बाल गृह में प्रवेश कराकर उसका स्कुल में दाखिला करवाया गया है।
न्यायपीठ अध्यक्ष प्रकाशचंद्र बाघरेचा ने बताया कि बालक के स्वहित में लिया गया यह फैसला देश का पहला फैसला है। उन्होंने कहा कि ऐसे बालक जो अपने माता-पिता तथा परिवार से शोषित या उपेक्षित महसुस करते है वे बालक समिति के पास आ सकते है। समिति द्वारा ऐसे बालकों का पुर्नवास किया जाता है।
समित सदस्य डॉ. नीरज अरोरा और सरला कांकरिया ने संयुक्त रूप से बताया कि ऐसे संवेदनशील मामले में न्यायपीठ सातो दिन 24 घंटे में तत्काल निर्णय लेकर बालकों के सर्वोत्तम हितों का ध्यान रखती है। सदस्यद्वय का कहना था कि ऑपरेशन मुस्कान के तहत भीख मांगने वाले बालकों का सर्वे कराकर ऐसे बालकों को समझाईश और माता-पिता को चेतावनी देकर बालको को समिति द्वारा पढ़ने-लिखने के लिए प्रेरित किया गया है।
Load More Related Articles
Load More By Sudhir Tamrakar
Load More In बालाघाट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

पूर्व विधायक सहित चार को कांग्रेस पार्टी से किया निष्कासित

बालाघाट/वारासिवनी म.प्र. कांग्रेस कमेटी भोपाल ने गुरूवार को कांग्रेस के ही प्रदीप जायसवाल,…